नई दिल्ली | सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले (Sushant Singh Rajput Death case) में तीन जांच एजेंसियां पिछले लंबे वक्त से पड़ताल कर रही हैं। लेकिन अभी तक इस केस में कुछ भी ऐसा सामने नहीं आया है जिससे सुशांत के परिवार द्वारा लगाए गए आरोप सही साबित हों। एम्स की रिपोर्ट (AIIMS report) में ये साफ किया जा चुका है कि सुशांत की मौत आत्महत्या करने के कारण हुई। सीबीआई ने भी इस पर अपनी सहमति जताई। वहीं अब सुशांत के बैंक अकाउंट से 15 करोड़ रुपये की हेरा-फेरा पर भी ईडी (ED) का अपना निर्णय आ गया है। ईडी के सुत्रों ने सुशांत के 15 करोड़ रुपये पर लंबे समय से चल रही जांच पर बड़ा खुलासा किया है।

सबकी फेवरेट जोड़ी Rekha और Amitabh को इस एक वजह ने कर दिया था दूर, आज भी नहीं मिलाते हैं नजरें

सुशांत के परिवार ने रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) पर 15 करोड़ रुपये की हेराफेरा का आरोप लगाया था। उन्होंने रिया समेत 6 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई थी। इस शिकायत में रिया चक्रवर्ती पर सुशांत को आत्महत्या के लिए उकसाने, प्यार के जाल में फंसाने और उनके पैसों का इस्तेमाल करने जैसे आरोप लगे थे। जिसके बाद मनी लॉन्ड्रिंग मामले में ईडी ने अब सुशांत के बैंक खातों में 15 करोड़ की हेरा-फेरा से इंकार कर दिया है। ईडी के सूत्र का कहना है कि सुशांत के परिवार (Sushant family) को उनके बैंक अकाउंट्स (Bank accounts) की कोई डिटेल नहीं थी। जिसके चलते उन्होंने गलतफहमी हुई है।

Kangana Ranaut की फिर बढ़ी मुश्किलें, कोर्ट ने FIR दर्ज करने का दिया आदेश.. जानिए पूरा मामला

ईडी के सूत्रों ने ये भी बताया है कि सुशांत का परिवार उनके आर्थिक मामलों में दखलअंदाजी नहीं करता था। सुशांत के अकाउंट से रिया के अकाउंट में कोई भी सीधा लेन-देन सामने नहीं आया है। यूरोप ट्रिप के दौरान सुशांत ने जो खर्चा किया था उसमें रिया पर भी किया गया था। इसके अलावा रिया या उनके परिवार के किसी भी खाते में सुशांत के बैंक अकाउंट से कोई पैसा नहीं गया है। ऐसी भी बात सामने आई है कि सुशांत के परिवार को लगता था कि रिया ने दिवंगत एक्टर के पैसों के साथ गड़बड़ी की है। हालांकि ऐसा कोई भी सबूत ईडी को नहीं मिला है। उन्होंने इन सभी आरोपों से साफ इंकार किया है। ईडी की जांच अभी जारी है।





Source link

Posts You May Love to Read !!

0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *