नई दिल्ली। बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत शिवसेना की ओर से लगातार हमला हो रहा है। पार्टी अपने मुखपत्र सामना के जरिए अभिनेत्री पर एक के बाद एक कई वार करती जा रही है। रविवार को शिवसेना की ओर से कंगना पर निशाना साधा गया। जिसमें ना केवल कंगना पर कई सवाल उठाए गए बल्कि इंडस्ट्री के कई जाने-माने सेलेब्स भी इस बार शिवसेना के निशाने पर आ गए। जो कंगना और शिवसेना के विवाद पर चुप्पी साधे बैठे हैं।

मुंबई की तुलना पीओके से करने पर कंगना के ऑफिस पर हथौड़ा चलाया गया। उनके दफ्तर के भीतर भी तोड़-फोड़ की गई। जिसके बाद से मुद्दा अब पूरी तरह से राजनैतिक रूप ले चुका है। जहां एक ओर पूरी इंडस्ट्री ड्रग मामले में फंसती हुई नज़र आ रही है। वहीं अब इस विवाद पर उनकी चुप्पी पर सवाल उठने लगे हैं। शिवसेना का कहना है कि ‘कंगना ने पहले मुंबई की तुलना पाकिस्तान से की। फिर बाबर जैसे शब्दों का प्रयोग किया गया। लेकिन यह सुनने के बावजूद भी इंडस्ट्री की बड़ी हस्तियां चुप क्यों बैठी हैं?’ पहली बार शिवसेना ने अभिनेता अक्षय कुमार पर निशाना साधते हुए कहा कि ‘अक्षय कुमार को मुंबई ने सफलता के साथ बहुत कुछ दिया है, लेकिन बावजूद इसके वह कंगना के बयानों पर एक शब्द नहीं बोले।

मुंबई का लगातार अपमान किया जाता रहा लेकिन सब चुप्पी साधे बैठे रहे। पूरी इंडस्ट्री ना सही लेकिन कुछ लोगों तो इस अपमान के लिए आगे आना चाहिए था।’ शिवसेना ने अपने ‘सामना पत्र’ में सवाल उठाते हुए आगे लिखा कि ‘क्या यह शहर केवल पैसा कमाने का एक बस एक जरिया बन कर रह गया है? महारष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के लिए कंगना ने कई अपशब्दों का इस्तेमाल किया लेकिन बताया गया कि मुंबई के निवासी कंगना का समर्थन कर रहे हैं। यही नहीं उन्होंने अभिनेत्री के बयान पर कहा कि ‘जब कंगना के दफ्तर में तोड़-फोड़ की गई। तब उन्होंने अपने ऑफिस को राम मंदिर से जोड़ दिया।’

उन्होंने इस एक ड्रामा बताया और पत्र में आगे लिखते हुए पूछा गया कि यह कैसी आजादी है? जहां जब अवैध निर्माण के चलते हथौड़ा चलाया गया तो उसे राम मंदिर बना दिया गया।’ शिवसेना के सामना पत्र के बाद से कई सेलेब्स भी अपनी चुप्पी के चलते उनके निशाने पर आ गए हैं।





Source link

Posts You May Love to Read !!

0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *